Astrology

साप्ताहिक राशिफल -7 Oct 2019 – 13 Oct 2019

 

Saptahik Rashiphal

मेष

इस सप्ताह चन्द्रमा शुरुआत में आपके दशम और फिर एकादश व द्वादश भाव में गोचर करेंगे, जिस चलते इस सप्ताह आपको इन्ही भाव के फलों की प्राप्ति होगी। सप्ताह की शुरुआत में चंद्र का गोचर दशम भाव में होने से कार्य स्थल पर उन्नति होगी क्योंकि कार्य क्षेत्र में आपको तरक्की मिलने की संभावना है। इस दौरान आपको मनचाहा कोई ट्रांसफर भी मिल सकता है। इसके साथ ही पारिवारिक जीवन में सुख शांति आएगी, जिससे मन प्रसन्न रहेगा। आपके माता पिता का स्वास्थ्य भी उत्तम रहने का योग है। इसके बाद चंद्र आपके एकादश भाव में गोचर कर जाएंगे जिसके चलते यदि आप इस दौरान अपनी कोई प्रॉपर्टी किराए पर देते हैं तो इससे अच्छा दहन अर्जित कर सकते हैं। हालांकि ये समय भाई-बहनों के लिए सही नहीं है क्योंकि इस दौरान आपके बड़े भाई बहनों से आपकी किसी कारण वश कहासुनी हो सकती है। आपको कार्य स्थल पर अपने वरिष्ठ अधिकारियों से अच्छे संबंध बनाए रखने चाहिए या उस ओर काम करना चाहिए, इससे आपको आने वाले कुछ समय में अच्छा लाभ मिल सकता है। इसके बाद सप्ताह के अंत में चंद्र देव आपके द्वादश भाव में विराजमान हो जाएंगे, जिस कारण आपको अपने घर से कही दूर जाना पड़ सकता है। इस समय आपके किसी यात्रा पर अचानक जाने के भी योग बनते दिखाई दे रहे हैं, जिससे आपके ख़र्चों में इज़ाफा देखा जाएगा। आर्थिक स्थिति के उतार-चढ़ाव से मानसिक तनाव भी परेशान करता रहेगा। लेकिन बावजूद इसके आप अपने सभी विरोधियों पर इस समय हावी रहेंगे और खुद को बेहतर बनाने की ओर कार्य करते दिखाई देंगे।

वृष

इस सप्ताह चन्द्रमा शुरुआत में आपके नवम भाव में फिर दशम और अंत में एकादश भाव में गोचर करेंगे, जिस चलते इस सप्ताह आपको इन्ही भाव के फलों की प्राप्ति होगी। सप्ताह की शुरुआत में चंद्र का गोचर नवम भाव में होने से आपके किसी सुदूर यात्रा पर जाने के योग बन रहे हैं। ऐसे में आपको इस यात्रा के दौरान की कोई समस्या हो सकती है, इसलिए अगर मुमकिन हो तो इस यात्रा को अभी कुछ समय के लिए टाल लिए बेहतर होगा। इस समय आपको अपने पिता जी का ख्याल रखने की ज़रूरत होगी क्योंकि उन्हें शारीरिक समस्या परेशान कर सकती हैं। हालांकि आपको इस समय अपने छोटे भाई बहनों का सहयोग मिलेगा जिससे आपके उनके साथ रिश्तों में मधुरता आएगी। इसके बाद सप्ताह के मध्य में चंद्र के आपकी राशि के दशम भाव में विराजमान होने पर आपको अपने कार्यक्षेत्र में अपने सहयोगियों से संबंध सुधारने की ज़रूरत होगी क्योंकि तभी आपको इस समय उनका समर्थन प्राप्त होगा। इस समय आपको अपने कार्य क्षेत्र में मेहनत अधिक करने की ज़रूरत होगी तभी आपको कामियाभी मिलेगी। इस समय विशेष तौर पर अपने काम पर फोकस रखें और अपने लक्ष्य से भृमित होने से खुद को रोके। इसके बाद अंत में चंद्र देव आपके एकादश भाव में गोचर कर जाएंगे, जिसके चलते आप अपने दोस्तों की मदद से अच्छा लाभ उठा सकते है इसलिए इस समय आपका उनके संग समय बिताना उचित रहेगा। इस समय दाम्पत्य जीवन में परेशानी आ सकती है क्योंकि आपकी संतान को समस्या होने का योग बनता दिखाई दे रहा है। इसलिए इस समय उनपर गुस्सा निकलने या उन्हें सजा देने की बजाय उनके साथ समय बिताए और उनके मन में चल रही हलचल को जानने का प्रयास करें।

 

मिथुन

इस सप्ताह चन्द्रमा शुरुआत में आपके अष्टम भाव में फिर नवम और अंत में दशम भाव में गोचर करेंगे, जिस चलते इस सप्ताह आपको इन्ही भाव के फलों की प्राप्ति होगी। सप्ताह की शुरुआत में चंद्र का गोचर अष्टम भाव में होने से आपको कुछ हद तक न चाहते हुए भी मानसिक तनाव हो सकता है, जिससे आपको धन की हानि भी होगी। इसलिए खुद को योग या ध्यान से तनाव मुक्त रखने की कोशिश करें। आपको इस समय अपने ससुराल जाने या ससुराल पक्ष के किसी व्यक्ति से मिलने का मौका मिलेगा। इस समय आपका दांपत्य जीवन भी उतार-चढ़ाव की स्थिति से परेशान रहेगा और उसमें साफ़ तौर पर तनाव देखने को मिलेगा। ये समय आपके स्वास्थ्य के लिए भी अच्छा नहीं कहा जा सकता आपको इस समय सेहत से जुड़ी कोई समस्या हो सकती है, इसलिए अपना ध्यान रखें। इसके बाद सप्ताह के मध्य में चंद्र देव आपके नवम भाव में प्रवेश कर जायेगे जिसके चलते आपको किसी स्रोत से लाभ मिलेगा और संभव है कि धन प्राप्ति का भी योग बने। आपको अपने कुटुंब के लोगों के साथ किसी काम के सिलसिले में किसी यात्रा पर जाना हो सकता है, इस दौरान आप अपने समझ से ये यात्रा अपने लिए लाभकारी बना सकते हैं। हालांकि आपके अपने छोटे भाई-बहनों से संबंधों के सुधार की ओर ध्यान देना होगा अन्यथा आपके उनके साथ संबंध बिगड़ सकते हैं, जिससे आपकी छवि खराब हो सकती है। इसके बाद सप्ताह अंत में चंद्र के आपकी राशि के दशम भाव में गोचर कर जाने पर कार्य क्षेत्र में स्थिति आपके लिए उत्तम होगी, जिसका लाभ भी आप भरपूर उठाने का प्रयास करेंगे लेकिन बावजूद इसके आपके ऊपर मानसिक तनाव हावी रहेगा। इस तनाव का सबसे बड़ा कारण होगा पारिवारिक जीवन में अत्यधिक तनाव की स्थितियों का उत्पन्न होगा, जिससे आपको जल्द ही नियंत्रित करने की सलाह दी जाती है अन्यथा इससे झगड़े की संभावना है। इस समय माता-पिता का स्वास्थ्य आपको चिंता दे सकता है, इसलिए उनका ध्यान रखें और ज़रूरत पड़ने पर सही चिकित्सक की सलाह लें।

 

कर्क

इस सप्ताह चन्द्रमा शुरुआत में आपके सप्तम भाव में फिर अष्टम और अंत में नवम भाव में गोचर करेंगे, जिस चलते इस सप्ताह आपको इन्ही भाव के फलों की प्राप्ति होगी। सप्ताह की शुरुआत में चंद्र का गोचर सप्तम भाव में होने से आपको अपने दांपत्य जीवन में खुशहाली की प्राप्ति होगी, जिससे आपका मन भी प्रसन्न दिखेगा। व्यापारियों को भी इस समय अपने व्यवसाय में अच्छा लाभ मिल सकता है। सेहत को देखें तो शुरुआत में आपका स्वास्थ मजबूत दिखेगा जिससे मन में प्रसन्नता झलकती रहेगी। इस समय आपके सहयोग से या आपकी मदद के चलते आपका जीवनसाथी तरक्की करेगा जिससे आपको भी लाभ होगा। कुल मिलाकर कहें तो सप्ताह की शुरुआत आपके लिए अच्छी रहेगी, इसलिए इस समय का उत्तम लाभ उठाए। इसके बाद चंद्र देव आपके अष्टम भाव में प्रवेश कर जाएंगे, जिसके चलते आपको स्वास्थ्य संबंधित कुछ समस्याएं परेशान करती रहेगी। इस समय आपको गहन मानसिक तनाव भी होगा और उम्मीद है कि आर्थिक तंगी के चलते या पैसों की ज़रूरत को देखते हुए आप किसी से कोई कर्जा भी ले सकते हैं या लेने पर विचार कर सकते हैं। इस समय आपको अनचाही यात्राएं करनी होगी, ऐसे में ध्यान रहे कि इस दौरान आपका अतिरिक्त धन न खर्च होने पाए। इसके बाद सप्ताह अंत में चंद्र के नवम भाव में विराजमान होने पर आपका मन धर्म व् आध्यात्मिकता की ओर अधिक लगेगा। जिस कारण आप किसी धार्मिक यात्रा अर्थात तीर्थाटन पर जाने का मन बना सकते हैं। हालांकि आपको इस यात्रा में कुछ समस्या भी आएगी और साथ ही ये समय आपके छोटे भाई बहनों के लिए अच्छा नहीं हैं क्योंकि उन्हें इस समय स्वास्थ्य से जुड़ी कोई समस्या परेशान कर सकती है। इस समय समाज व परिवार के बीच अपनी छवि को खराब न होने दें और किसी भी करकार के व्यर्थ के विवाद में खुद को न पड़ने दें अन्यथा योग है कि आपका अपने पड़ोसियों, दोस्तों या रिश्तेदारों से किसी बात को लेकर विवाद या झगड़ा हो सकता है।

 

सिंह

इस सप्ताह चन्द्रमा शुरुआत में आपके षष्ठम भाव में फिर सप्तम और अंत में अष्टम भाव में गोचर करेंगे, जिस चलते इस सप्ताह आपको इन्ही भाव के फलों की प्राप्ति होगी। सप्ताह की शुरुआत में चंद्र का गोचर आपकी राशि के षष्ठम भाव में होने से आपके किसी भी कारण वश पहले से अधिक खर्चे होंगे, जिसपर जल्द ही अंकुश लगाना आपके लिए बेहतर होगा। इस समय आपका शत्रु पक्ष सक्रिय दिखाई देगा लेकिन बावजूद इसके आप अपनी लग्न से अपने विरोधियों पर हावी रहेंगे। मन में एक अजीब से जद्दोजहद चलती रहेगी जिस कारण आप खुद को मानसिक रूप से व्याकुल महसूस करेंगे। इस समय कोशिश करें कि बेवजह की यात्रा न करने की ज़रूरत पड़े अन्यथा उनपर आपका अत्यधिक खर्च होगा जिस कारण भी मानसिक तनाव बढ़ेगा। इसके बाद सप्ताह के मध्य में चंद्र देव के आपकी राशि में सप्तम भाव में विराजमान होने पर समय आपके दांपत्य जीवन के लिए अनुकूल साबित होगा। आपको अपने कुछ विदेशी स्रोतों से अच्छा लाभ मिलने की संभावना बन रही है। इस समय आप खुद की साज-सज्जा पर अधिक ध्यान देंगे जिसपर आपका कुछ धन भी खर्च होगा। चंद्र इसके बाद आपकी राशि के अष्टम भाव में प्रवेश कर जाएंगे जिसके कारण आपको बिना वजह के पैसे किसी अनचाही यात्राओं पर खर्च करने पड़ेंगे। आपके लिए बेहतर होगा कि अभी कुछ समय के लिए इसे टाल दें अन्यथा इस यात्रा से थकान और धन के ख़र्च होने से तनाव की स्थिति बढ़ सकती है। इसके साथ ही पारिवारिक जीवन को देखें तो इस सप्ताह आपके कुटुंब में कलहबाजी की स्थिति बनी रहेगी, जिसे आप न चाहते हुए भी खत्म नहीं कर पाएंगे।

 

कन्या

इस सप्ताह चन्द्रमा शुरुआत में आपके पंचम भाव में फिर षष्ठम और अंत में सप्तम भाव में गोचर करेंगे, जिस चलते इस सप्ताह आपको इन्ही भाव के फलों की प्राप्ति होगी। सप्ताह की शुरुआत में चंद्र का गोचर आपकी राशि के पंचम भाव में होने से आपके दांपत्य जीवन में परेशानी आ सकती है क्योंकि इससे आपकी संतान को तनाव मिलने की आशंका है। हालांकि इस समय आपकी सभी इच्छाओं की पूर्ति होगी और आप अपने कई पूर्व की अधूरी पड़ी योजनाओं में सफल होंगे, जिससे भविष्य के लिए धन प्राप्ति का मार्ग खुलेगा और आर्थिक मज़बूती प्राप्त होगी। इसके बाद षष्ठम भाव में चंद्र के गोचर से आपके कई बनते हुए कामों में विघ्न आएगा जिससे वर्तमान में नुक्सान हो सकता है। आपके खर्चे अत्यधिक होते के भी योग बन रहे हैं। साथ ही सम्भावना है कि आपकी अपने मामा पक्ष के लोगों से मुलाकात हो या उनसे फ़ोन पर बात हो, जिससे कुछ नया समाचार सुनने को मिलेगा। इसके बाद अंत में चंद्र का गोचर आपकी राशि के सप्तम भाव में होने से आपके दांपत्य जीवन में अच्छे दिनों की वापसी होगी, साथ ही इस समय आपको अपने जीवनसाथी से या उसके माध्यम से कोई लाभ मिल सकता है। हालांकि इस समयावधि में आपके व्यवहार में उग्रता बढ़ने से आपको कोई समस्या आ सकती है। आपको हिदायत दी जाती है कि कुछ भी हो इस समय वाहन चलाते वक़्त ज़रा भी लापरवाही न बरते अन्यथा कोई हानि पहुँच सकती है।

 

तुला

इस सप्ताह चन्द्रमा शुरुआत में आपके चतुर्थ भाव में फिर पंचम और अंत में षष्ठम भाव में गोचर करेंगे, जिस चलते इस सप्ताह आपको इन्ही भाव के फलों की प्राप्ति होगी। सप्ताह की शुरुआत में चंद्र का गोचर आपकी राशि के चतुर्थ भाव में होने से आपके पारिवारिक जीवन में खुशहाली का वातावरण देखने को मिलेगा। इस दौरान आप अपना ज़रूरी समय अपने घर-परिवार में देंगे जिससे घरेलू कार्यों में आपका योगदान बढ़-चढ़ कर देखा जाएगा। इससे आपके छवि और रुतबा परिवार के सदस्यों में बीच बढ़ेगा। इन सकारात्मक बदलावों के चलते आप अपने कार्य क्षेत्र में अच्छा प्रदर्शन कर पाएंगे, जिससे वहां भी सब आपसे खुश रहेंगे। इसके बाद चंद्र के आपकी राशि के पंचम भाव में गोचर कर जाने पर आपको अपनी संतान के प्रति स्नेह दिखाने का मौका मिलेगा। छात्रों के लिए भी ये समय अच्छा है और उन्हें भी अपनी शिक्षा में सफलता मिल सकती है। हालांकि नौकरी पेशा लोगों को अपने मन पर संयम रखने की ज़रूरत होगी क्योंकि इस समय आपका नौकरी में मन थोड़ा कम लगेगा। तुला राशि वालों को इस समय अपने विरोधियों और अपने सहकर्मियों पर नज़र बनाए रखने की ज़रूरत होगी जिसके चलते आप थोड़ा सतर्क भी रहेंगे। इसके बाद अंत में चंद्र देव आपकी राशि के षष्ठम भाव में गोचर कर जाएंगे जिससे जातक खासतौर से नौकरी पेशा अपने कार्य क्षेत्र में अच्छा काम करेंगे, जिससे उन्हें अपने सक्रीय विरोधियों से जीत हासिल करने में सफलता मिलेगी। हालांकि इस समय आपके खर्चे बहुत अधिक हो सकते है, इसलिए आपको इस समय थोड़ा ध्यान देना होगा। आपका किसी विदेश यात्रा पर जाने का योग बन सकता है या आप इस ओर कोई प्लान करते नज़र आएंगे। कुल मिलकर ये सप्ताह आपको मिलेजुले परिणाम ही देगा।

 

वृश्चिक

इस सप्ताह चन्द्रमा शुरुआत में आपके तृतीय भाव में फिर चतुर्थ और अंत में पंचम भाव में गोचर करेंगे, जिस चलते इस सप्ताह आपको इन्ही भाव के फलों की प्राप्ति होगी। सप्ताह की शुरुआत में चंद्र का गोचर आपकी राशि के तृतीय भाव में होने से आपको किसी छोटी दुरी की यात्रा पर जाना पड़ सकता है, हालांकि ये यात्राएं आपके लिए आनंददायक साबित होंगी जिससे मन खुश रहेगा। भाई बहनों के प्रति आप अच्छा बर्ताव करेंगे, जिससे आपके संबंधों में सुधार के साथ-साथ उनके मन में आपके प्रति विश्वास साफ देखा जाएगा। इस सप्ताह आपका मन धर्म-कर्म के कामों में अधिक लगेगा और आप इन कार्यों में बढ़-चढ़ कर हिस्सा लेता दिखाई देंगे। धन लाभ के लिए भी ये समय बेहद अनुकूल दिखाई दे रहा है, इसलिए इसका जमकर फायदा उठाए। इसके बाद आपकी रही में चंद्र का गोचर आपके चतुर्थ भाव में होगा, जिससे आपको अपने घर-परिवार में खुशियों का आगमान दिखाई देगा। उत्तम समय का लाभ उठाते हुए आप अपने कार्य क्षेत्र में कुछ बदलाव करने के बारे में भी सोच सकते है। इस समय आपको जीवन के कई क्षेत्रों में मन लगाकर काम करने का सबसे अच्छा लाभ मिलेगा। इसके बाद सप्ताह के अंत में चंद्र का गोचर आपकी राशि के पंचम भाव में होगा जिससे आपके प्रेम संबंधों में तनाव साफ़ देखा जाएगा। लेकिन बावजूद इसके आपका प्रेमी आपको सांत्वना देता रहेगा। विद्यार्थियों को विशेष ध्यान देने की ज़रूरत होगी अन्यथा उनकी एकाग्रता में कोई कमी आने से वो अपने लक्ष्य से भ्रमित हो सकते हैं। इस समय आर्थिक तौर पर सबसे जायदा फायदा आपको ही होगा जिससे धन लाभ भी देखा जा सकता है।

 

धनु

इस सप्ताह चन्द्रमा शुरुआत में आपके द्वितीय भाव में फिर तृतीय और अंत में चतुर्थ भाव में गोचर करेंगे, जिस चलते इस सप्ताह आपको इन्ही भाव के फलों की प्राप्ति होगी। सप्ताह की शुरुआत में चंद्र का गोचर आपकी राशि के द्वितीय भाव में होने से आपके लिए इस समय अचानक से धन प्राप्ति के द्वार खुलेंगे। या कुछ ऐसा हो सकता है कि कोई पुरानी या नहीं विरासत आपकी सामने आ सकती है। कुटुंब में समय उत्तम रहेगा। जिससे आपको अच्छे-अच्छे पकवान या भोजन की लालसा रहेगी और आप उसे पूरा करने के लिए तत्पर भी नज़र आएँगे। इसके बाद चंद्र आपकी राशि के तृतीय भाव में विराजमान हो जाएंगे जिसके चलते आपकी किसी कलात्मक कार्य में अभिरुचि पहले से अधिक बढ़ जाएगी। हालांकि ये समय आपके छोटे भाई बहनों के लिए प्रतिकूल नहीं देखा जाएगा और उन्हें इस समय कोई समस्या होने का योग बनेगा। इस समय किसी यात्रा पर जाना होगा लेकिन अभी उस यात्रा को न ही करना आपके लिए सबसे बेहतर विकल्प होगा, इसलिए बाद के लिए उसे टाल दें। इसके बाद चन्द्रमा आपकी राशि के चतुर्थ भाव में प्रवेश कर जाएंगे जिससे आप अपने परिवार को अपना कीमती समय देंगे और आपका मन भी घर-परिवार में लगेगा लेकिन आशंका है कि इस समय किसी कारण वश आपकी सुख शांति भंग हो सकती है। कार्य क्षेत्र में आपके अच्छे प्रदर्शन के चलते आपके अधिकारों में वृद्धि हो सकती है, जिससे आपका ओधा बढ़ सकता है और आपकी इसी मेहनत के चलते आपको पदोन्नति मिलने की संभावना है। लें सबसे ज्यादा इस वक़्त आपको ध्यान रखना होगा कि किसी भी अधिकार के आ जाने के बाद आपके स्वभाव में अहंकार न आए अन्यथा इसके दुष्परिणाम आपको ही भुगतने पड़ेंगे।

 

मकर

इस सप्ताह चन्द्रमा शुरुआत में आपके प्रथम यानी लग्न भाव में फिर द्वितीय और अंत में तृतीय भाव में गोचर करेंगे, जिस चलते इस सप्ताह आपको इन्ही भाव के फलों की प्राप्ति होगी। सप्ताह की शुरुआत में चंद्र आपकी राशि के लग्न यानी प्रथम भाव में विराजमान होंगे, जिसके चलते आपका मन खिला-खिला रहेगा और आप खुद में आए इस सकारात्मक बदलाव के चलते अपने समय का सर्वश्रेष्ठ लाभ उठा पाएंगे। इस समय दांपत्य जीवन में भी ख़ुशियाँ मिलेगी, जिससे परिवार को समय देंगे। अगर आपके कार्य क्षेत्र की बात की जाए तो उसमें भी समय अच्छा है जिससे आपको अच्छा ख़ासा लाभ मिल सकता है। आपका ये रवैया दूसरों को आपकी ओर आकर्षित कर पाने में कामियाब होगा, जिससे कोई अच्छा समाचार मिल सकता है। इसके बाद चंद्र देव आपकी राशि के दूसरे यानी आपके द्वितीय भाव में गोचर कर जाएंगे जिससे आपके जीवन साथी को कुछ समस्या हो सकती है और आशंका है कि इस समय उनका स्वास्थ्य प्रभावित हो। आप अपने परिवार के बारे में इस समय ज्यादा सोचेंगे। आपको किसी नए स्रोत्र से धन प्राप्ति का नया मार्ग मिलेगा, लेकिन इस समय आपको समय के ऊपर न छोड़ते हुए अपनी सफलता के लिए खुद ही प्रयास करने होंगे तभी सफलता मिल पाएंगी। इसके बाद सप्ताहांत में चंद्र का गोचर आपकी राशि के तृतीय भाव में हो जाएगा जिससे आपको यात्रा पर जाना पड़ सकता है और अगर ये यात्रा छोटी होगी तो आपके लिए सबसे बेहतर होगा। इस समय भाई बहनों को किसी प्रकार की कोई समस्या हो सकती है, इसलिए उनका सहयोग करें और उनपर गुस्सा करने की बजाय उनसे बातचीत करते रहें। अन्यथा आपसे उनसे संबंधों पर इस समय बुरा असर पड़ सकता है।

 

कुम्भ

इस सप्ताह चन्द्रमा शुरुआत में आपके द्वादश भाव में फिरप्रथम यानी लग्न भाव में और अंत में द्वितीय भाव में गोचर करेंगे, जिस चलते इस सप्ताह आपको इन्ही भाव के फलों की प्राप्ति होगी। सप्ताह की शुरुआत में चंद्र आपकी राशि के द्वादश भाव में विराजमान होंगे, जिसके चलते आपका मानसिक तनाव बढ़ेगा क्योंकि इस समय स्थितियाँ आपको अपने विपरीत नज़र आएँगी। इस दौरान आपके न चाहते हुए भी बेवजह के खर्च होंगे। साथ ही विरोधी भी आपको परेशान करते रहेंगे, जिससे समस्या आएगी। जो लोग किसी भी प्रतियोगी परीक्षा की तैयारी कर रहें हैं उन्हे इस समय और अधिक मेहनत केने की ज़रूरत होगी अन्यथा पूर्व की मेहनत भी बेकार जा सकती है। इसके बाद सप्ताह के मध्य में चंद्र देव आपकी राशि के लग्न यानी प्रथम भाव में विराजमान होंगे जिससे आपको कुछ परेशानियां आएँगे और आपको इन चुनौतियों का सामना करने का प्रयास करते रहने की ज़रूरत होगी। इस समय विशेष तौर पर अपनी सेहत के प्रति सावधान रहें और छोटे-बड़े सभी रोगों से खुद का बचाव करें। आप इस समय खुद को मानसिक रूप से कुछ कमजोर महसूस करेंगे जिससे आप थोड़ा मायूस भी हो सकते हैं, लेकीन इस बात को समझने की ज़रूरत होगी कि जीवन में सब कुछ सही चलता रहें ये भी मुमकिन नहीं होता है। इस समय आपका दांपत्य जीवन अच्छा रहेगा। इसके बाद अंत में चंद्रमा आपके द्वितीय भाव में गोचर कर जाएंगे जिससे आपको ज़रूरत पड़ने पर बिना किसी संकोच के अपनी बात रखने से फायदा होगा और मुमकिन है कि इस दौरान आपकी किसी से बहस या कोई विवाद हो जाए जिससे आपको लाभ ही होगा। ससुराल पक्ष से मुलाक़ात या बातचीत करते समय खुद पर नियंत्रण रखें क्योंकि उस पक्ष से किसी बात को लेकर कहासुनी की स्थिति उत्पन्न होना का योग बन रहा है। आपको दूसरों के भरोसे न रहते हुए धन प्राप्ति के लिए प्रयास करने होंगे जिसके लिए आप इस वक़्त तत्पर भी नज़र आएंगे। सलाह दी जाती है कि जितना हो सकते उतना अधिक तले भुने भोजन करने से बचें अन्यथा सेहत खराब हो सकती है।

 

मीन

इस सप्ताह चन्द्रमा शुरुआत में आपके एकादश भाव में और फिर द्वादश भाव में होते हुए आपकी राशि के प्रथम यानी लग्न भाव में गोचर करेंगे, जिस चलते इस सप्ताह आपको इन्ही भाव के फलों की प्राप्ति होगी। सप्ताह की शुरुआत में चंद्र का गोचर आपकी राशि के एकादश भाव में होगा जिसके चलते आपको इस समय अच्छा ख़ासा आर्थिक लाभ मिलेगा। छात्रों के लिए भी समय अच्छा है और उन्हें शिक्षा से इस समय फायदा मिलेगा। दांपत्य जातकों को संतान के प्रति अपने रुझान में वृद्धि दिखाई देगी, जिससे उनका मन प्रसन्न रहेगा। आप अपनी कुछ इच्छाओं की पूर्ति हेतु कार्यरत रहेंगे और आप उन्हें पूरा कर पाने में सफल भी होंगे। आपको अपनी अच्छी छवि से समाज में ऊंचा स्थान और मान मिलेगा। इसके बाद चंद्र का मध्य में आपकी राशि के द्वादश भाव में विराजमान होने से आपको अपनी शिक्षा हेतु विदेश जाने का मौका मिलेगा। इस मौके की तलाश आप बीते समय स कर रहे थे इसलिए इस समय आप इसे पाकर इसका उत्तम लाभ उठाएंगे। इससे आपके ख़र्चों में इस समय अच्छी खासी बढ़ोतरी होगी। दांपत्य जीवन में भी आप अपनी संतान के किसी कार्य पर धन खर्च करेंगे। विरोधी सक्रिय रहेंगे लेकिन आप उन्हें प्रबल कर देंगे। इसके बाद चंद्र देव आपकी राशि के लग्न यानी आपकी ही राशि में विराजमान हो जाएंगे जिससे आपके मन में अच्छे व सकारात्मक विचारों की वृषहि होगी। और इन्ही के बल पर आप अपनी उत्तम बुद्धि का इस्तेमाल कर किसी भी कार्य में सफलता अर्जित कर पाएंगे। हालांकि सफलता के बावजूद भी आपके मन में किसी बात को लेकर बेचैनी बनी रहेगी जिसका असर आपके दांपत्य जीवन में तनाव की बढ़ोतरी के होने के साथ होगा।

 

Border Pic

Leave a Reply