Religion

नवरात्रि के दूसरे दिन मां ब्रह्मचारिणी की आराधना

  मां दुर्गा का दूसरा रूप ब्रह्मचारिणी जिसका दिव्य स्वरूप व्यक्ति के भीतर सात्विक वृत्तियों के अभिवर्दन को प्रेरित करता है। मां ब्रह्मचारिणी को सभी विधाओं का ज्ञाता माना जाता है। मां के इस रूप की आराधना से मनचाहे फल की प्राप्ति होती है। तप, त्याग, वैराग्य, सदाचार व संयम जैसे गुणों वृद्धि होती है।… पढ़ना जारी रखें नवरात्रि के दूसरे दिन मां ब्रह्मचारिणी की आराधना

Religion

नवार्ण मंत्र

दुर्गा सप्तशती में नवार्ण मंत्र मूल मंत्र है जिसके बिना दुर्गा जी की उपासना पूर्ण नहीं मानी जाती। नव का अर्थ नौ तथा अर्ण का अर्थ अक्षर होता है।अतः नवार्ण मंत्र नौ अक्षरों वाला मंत्र है, नवार्ण मंत्र :- ' ऐं ह्रीं क्लीं चामुंडायै विच्चै। नौ अक्षरों वाले इस नवार्ण मंत्र के एक-एक अक्षर का… पढ़ना जारी रखें नवार्ण मंत्र

Religion

नवरात्र का पहला दिन – देवी शैलपुत्री की पूजा

आज से नवरात्र शुरू हो रहे हैं। ऐसे में पूरे नौ दिनों तक मां दुर्गा के नवस्वरूपों की पूजा की जाती है। देवी दुर्गा के नौ रूपो में सबसे पहला रूप माँ शैलपुत्री का हैं। नवरात्र के पहले दिन मां शैलपुत्री की पूजा की जाती है। पर्वतराज हिमालय के घर पुत्री के रूप में जन्म… पढ़ना जारी रखें नवरात्र का पहला दिन – देवी शैलपुत्री की पूजा

Religion

शारदीय नवरात्री घटस्थापना 2019

कलश स्थापना के लिए शुभ मुहूर्त इस प्रकार है: चंचल – प्रातः 7.48 से 9.18 तक लाभ – प्रातः 9.18 से 10.47 तक अमृत – प्रातः 10.47 से 12.17 तक शुभ – दोपहर 13.47 से 15.16 तक शाम को 18.15 से 19.46 तक शुभ है। नवरात्रि के दौरान घटस्थापना महत्वपूर्ण अनुष्ठानों में से एक है।… पढ़ना जारी रखें शारदीय नवरात्री घटस्थापना 2019

Religion

सात चक्र और अपार सिद्धियां, जानिए कैसे होगा संभव

1. मूलाधार चक्र : यह शरीर का पहला चक्र है। गुदा और लिंग के बीच चार पंखुरियों वाला यह 'आधार चक्र' है। 99.9 लोगों की चेतना इसी चक्र पर अटकी रहती है और वे इसी चक्र में रहकर मर जाते हैं। जिनके जीवन में भोग, संभोग और निद्रा की प्रधानता है उनकी ऊर्जा इसी चक्र… पढ़ना जारी रखें सात चक्र और अपार सिद्धियां, जानिए कैसे होगा संभव