Astrology · Religion

फंसा हुआ धन प्राप्त करने के उपाय

borrower

यदि कहीं पर आपका धन फंसा हुआ है तो घबराएँ नहीं, पढ़ें फंसा हुआ धन प्राप्त करने के उपाय और जानें कैसे आप अपना धन प्राप्त कर सकते हैं। हमारे जीवन में कई बार ऐसी परिस्थितियाँ निर्मित हो जाती हैं जिससे कि उधारी में हमारे पैसे डूबने, रुकने या फिर फंसने की नौबत आ जाती है। ऐसे में फंसा हुआ धन पाना मुश्किल हो जाता है और हम उसको लेकर परेशान होते हैं, हमारी रातों की नींद उड़ जाती है और दिन का चैन खो जाता है। पैसा फंसने पर आपके मन कई तरह के सवाल आते होंगे। जैसे- फंसा हुआ धन वापस कैसे लें?, फंसा धन पाने के क्या तरीक़े हैं? फंसा धन कैसे पाया जाए? पैसा वापस पाने के उपाय क्या हैं? रुका हुआ धन प्राप्ति के उपाय क्या है? इत्यादि। इसलिए फंसा हुआ पैसा निकालने के उपाय हमारे लिए बहुत ज़रुरी हैं। इसके साथ ही यदि किसी व्यक्ति ने आपसे पैसे उधार लिए हैं और वह उस उधारी को चुकाने के लिए आनाकानी कर रहा है तो आपके लिए इस लेख में उधारी वसूलने के उपाय दिए जा रहे हैं। इन उपाय को कर आप आसानी से अपना उधार दिया पैसा वापस पा सकेंगे। रुका हुआ पैसा निकालने के उपाय से संबंधित इस लेख में बहुत ही सरल उपाय बताए जा रहे हैं।

ज्योतिषीय दृष्टिकोण

ज्योतिष शास्त्र में फंसा हुआ धन प्राप्त करने के उपाय के तहत विस्तृत उल्लेख है। परंतु इससे पहले हम आपको ज़रुरी बिंदुओं को बताना सही समझते हैं। यदि आपकी कुंडली में गुरु एवं शुक्र ग्रह मज़बूत हैं तो आपके रुके हुए धन के वापस आने के योग हैं। इसके विपरीत यदि कुंडली में मंगल, शनि एवं राहु अशुभ हों तो आपको धन हानि होगी। कुंडली में दशम भाव हमारे कर्म का और नवम भाव भाग्य का होता है। वहीं ग्यारहवां भाव लाभ का और दूसरा भाव हमारे द्वारा कमाए गए धन का होता है। जन्म कुंडली में छठे, आठवें और बारहवें भाव के स्वामी कुंडली में हावी हों तो धन हानि, क़र्ज़ और धन चोरी का सामना करना पड़ता है इसलिए किसी भी ज्योतिषीय उपाय को आजमाने से पूर्व किसी ज्योतिष के ज्ञानी को इन भावों को अवश्य दिखाएं।

ज्योतिषीय उपाय

  • कुंडली में शुक्र व गुरु को मज़बूत करें
  • कुंडली में द्वितीय, नवम, दशम एवं एकादश भाव एवं इनके भावेशों को मज़बूत करें
  • कुडली में शनि, राहु एवं मंगल यदि बुरे भाव में हैं तो उनकी शांति का उपाय करें
  • पितृ दोष निवारण के उपाय करें
  • पूर्ण विधि के साथ श्रीयंत्र को स्थापित करें
  • नियमानुसार महालक्ष्मी यंत्र को स्थापित करें
  • व्यापार वृद्धि यंत्र को स्थापित करें
  • पूजा विधि के अनुसार श्री धन वर्षा यंत्र को स्थापित करें
  • गणेश लक्ष्मी रुद्राक्ष (दो सातमुखी एवं एक आठ मुखी रुद्राक्ष) धारण करें
  • कुबेर यंत्र की आराधना करें
  • श्रीसूक्त का पाठ करें

फंसा हुआ धन प्राप्त करने का मंत्र

वैदिक मंत्रों में शक्ति समाहित होती है। अतः फंसे हुए धन को पाने के लिए निम्न मंत्र को जपना चाहिए –

“ॐ क्रीं कृष्णाय नमः”
कृष्ण बीज मंत्र का जाप करने से फंसा हुआ धन वापस आता है।

 

अष्टदलोपरिवेष्टित लिंगं, सर्वसमुद्भवकारण लिंगं।
अष्टदरिद्रविनाशित लिंगं, तत्प्रणमामि सदाशिव लिंगं॥

 

अर्थ- आठों दलों में मान्य, एवं आठों प्रकार के दरिद्रता का नाश करने वाले सदाशिव लिंग सभी प्रकार के सृजन के परम कारण हैं- आप सदाशिव लिंग को प्रणाम।

“ॐ आदित्याय नमः”

इस मंत्र का जाप करने से पूर्व स्नान करें और तांबे के पात्र जल भरें और इसमें लाल मिर्च के 11 बीज डालें और फिर सूर्यदेव को यह जल अर्पण करें और पैसे वापसी की प्रार्थना करें।

फंसा हुआ धन पाने के टोटके

  • शनिवार को दक्षिण दिशा की ओर मुँह कर हनुमान जी की प्रतिमा के आगे सरसों के तेल का दीया जलाएँ। उस दीये पर सरसों के कुछ दाने, 2 लौंग और एक कपूर डालें। अब तीन बार बजरंग बाण का पाठ करें। फिर हनुमान जी से रुका हुआ धन पाने की प्रार्थना करें। अब दीपक में से 2 चम्मच तेल निकालें और उसका काजल बनाएं। अब किसी मुलायम वस्त्र पर उस व्यक्ति का नाम लिखें जिसको आपने धन दिया है। अब इस कपड़े की बत्ती बनाएं। अब आटे के दीपक में तिल का तेल डाल कर इस बत्ती को पुनः हनुमान जी के सामने जलाएँ और दोबारा 5 बार बजरंग बाण का पाठ करें। फंसा हुआ धन आपको वापस मिल जाएगा।
  • 2 राजा कौड़ी (यह किसी भी पूजा की दुकान पर मिल जाएगी) उस व्यक्ति के घर के सामने डाल दें जिसको आपने धन दिया है। इस टोटके से वह आपको आपके पैसे वापस कर देगा। यह फंसा हुआ धन पाने का आसान उपाय है।
  • ऐसा माना जाता है कि पीली कौड़ी माँ लक्ष्मी जी का प्रतिनिधित्व करती है। इसलिए पाँच पीली कौड़ी पूजा के स्थान पर रख दें। इससे आपका फंसा हुआ धन वापस आने लगेगा।
  • शुक्रवार के दिन कपूर जलाकर उसका काजल बना लें। अब एक भोजपत्र पर उस व्यक्ति का नाम लिखें जिसको आपने पैसा दिया है। अब इस भोजपत्र पर सात बार थपकी देकर इसे अपनी तिजोरी में दबाकर रख लें। इस उपाय से आपका रुका हुआ धन वापस आने लगेगा।
  • मंगल एवं बुधवार को क़र्ज़ का लेनदेन न करें। शास्त्रों में ऐसा कहा जाता है कि मंगलवार को कभी क़र्ज़ नहीं लेना चाहिए। इस दिन क़र्ज़ लेने वाला व्यक्ति हमेशा क़र्ज़ के बोझ तले दबा रहता है। वहीं बुधवार के दिन कभी उधार नहीं देना चाहिए। ऐसा माना जाता है कि इस दिन दी गई उधारी के वापस आने के योग कम होते हैं।

हम आशा करते हैं कि फंसा हुआ धन प्राप्ति के उपाय के माध्यम से आपको आपका धन प्राप्त हो सके। आपको उज्जवल भविष्य की मंगल कामनाएँ !

Border Pic

Leave a Reply